Home Folk अचको मचको | Rani Rangili,Mahendra Singh

अचको मचको | Rani Rangili,Mahendra Singh

रानी रंगीली, कुंवर महेंद्र सिंह और रेखा की आवाज में अचको मचको सॉन्ग राजस्थानी गीत हैं। इस गीत का म्यूजिक राज स्टूडियो ने कंपोज किया व निर्देशक रानी रंगीली हैं। मारवाड़ी एल्बम का सॉन्ग रानी कैसेट्स की ओर से प्रस्तुत हुआ हैं। एल्बम गीत के लेखिका रानी रंगीली हैं।

गौरी की काली चुनर का पला धरती पर गिरा हुआ हैं और उसका रूप रंग देखकर पिया का दिल धड़क रहा हैं। मतवाली चाल चलने पर गौरी की पतली कमर बल खा रही हैं और नागिन जैसे चोटी हवा में लहरा रही हैं। उसकी तिरछी नजर ने कई आशिक का दिल घायल कर दिया हैं और उसके चक्कर में आशिक को चेन नहीं मिल रहा हैं।

Achko Machko Song Lyrics

काली काली चुंदड़ी रो पल्लो लटके
पल्लो लटके रे म्हारो दिल धड़के
दिल धड़के रे म्हारो दिल धड़के

गोरा मुखड़ा हैं सिर पर चुंदड़ काली
अचको मचको बोलो ना

Advertisement

पतली कमर थारी लचका मारे
काली चुंदड़ म्हारो दिल धडकावे

गोरा मुखड़ा हैं सिर पर चुंदड़ काली
अचको मचको बोलो ना

बैरण निगाह मेरी मार डाले
दीवानो के सीने से दिल निकाले

करदे बेहाल थारी हिरणी सी चाल ये
थारी काली चुंदड़ को पल्लो लटके
देख तने म्हारो दिल धड़के

गोरा मुखड़ा हैं सिर पर चुंदड़ काली
अचको मचको बोलो ना

डीजे लगादे तू बेस बढ़ा दे
डीजे पर जमकर तू मुझको नचा दे

होठो पे काली चुंदड़ तेरी काली
बचके तू रिजे उम्र थारी बाली

गोरा मुखड़ा हैं सिर पर चुंदड़ काली
अचको मचको बोलो ना

अन्य राजस्थानी गाने भी देखे :

विकसित राष्ट्र की हो कल्पना |
स्वच्छता को होगा अपनाना ||