Home Bhajan बजरंग बालाजी | Hanuman Tatawat | Lyrics

बजरंग बालाजी | Hanuman Tatawat | Lyrics

हनुमान टाटावत की आवाज में बजरंग बालाजी सॉन्ग एक भक्तिमय राजस्थानी भजन हैं। प्रियंका भाटी अभिनीत गीत का निर्देशन चिंटू प्रजापत और कालू प्रजापत ने किया हैं। इस गीतके निर्माता रेवंत राइका हैं।

बजरग बली की लीला का कोई पार नहीं हैं। बचपन में सूरज को फल समझकर खा गए थे ऐसे महा बलवान हैं। बजरग बली कोढ़ियो के कोढ़ मिटाते हैं बाझड़लियो की गोद भरते हैं। बाबा का नाम जग के अंदर पूजा जाता हैं।

Bajarang Balaji Song Lyrics

थारी लीला को पार कोनीं पायो रे बजरंग बालाजी
बालाजी रे म्हारा बालाजी बालाजी रे म्हारा बालाजी
थारी लीला को पार कोनीं पायो रे बजरंग बालाजी

फल समझकर सूरज खाया बजरंग बालपना के मह्या
तगड़ो कर दियो नाम जग माही रे बजरंग बालाजी
थारी लीला को पार कोनीं पायो रे बजरंग बालाजी

Advertisement

तुलसीदास राम रट माही नित उठ चित्रकूट ओर जाए
गायो राम राम गुण माही रे बजरंग बालाजी
थारी लीला को पार कोनीं पायो रे बजरंग बालाजी

पंचवटी ने सुनी करग्यो
कूदो लंक पति दरबार रे बजरंग बालाजी
थारी लीला को पार कोनीं पायो रे बजरंग बालाजी

कोढ़या का तो कोढ़ मिटावे बांझड़ी की तू कोक झलावे
भरदे निवेदन को भंडार रे बजरंग बालाजी
थारी लीला को पार कोनीं पायो रे बजरंग बालाजी

अन्य राजस्थानी गाने :

गांधीजी के सपने को कीजिए साकार |
स्वच्छता हो देश मे आपार ||