Home Folk बरसाता में उड़ियो लहरियों | Baluram Dhangar | Lyrics

बरसाता में उड़ियो लहरियों | Baluram Dhangar | Lyrics

अनुज सागर और निशा सोनी ने बरसाता में उड़ियो लहरियों गीत में अहम् भूमिका निभाई हैं। इस गाने में आवाज बालूराम धनगर ने दी हैं । मारवाड़ी सांग मान म्यूजिक की नयी प्रस्तुति हैं।

बरसात की ऋतू आने पर ठंडी ठंडी हवा चल रही हैं और गौरी का सतरंगी लहरिया हवा में लहरा रहा हैं। उसके माथे पर रखड़ी हाथो में चुडिया पैरो में पायल और उसके उसके रूप रंग देखकर चाँद भी शर्मा रहा हैं। उसके चलने पर पैरो की पायल छम छम की आवाज कर रही हैं और घेरदार लहंगा पहने हुए डीजे पर घूमर नृत्य कर रही हैं।

Barsata Mein Udiyo Lahriyo Song Lyrics

(अरे झीनो चाले बायरो ने उड़े थारो ल़हेरियो
सर,,रे,,रे उड़े रे का थारो ल़हेरियो) x2

अरे माथे पे रखड़ी हे चाँद जिया लगारी
पायल पैरा माही छम-छम बाजणी
सर,,रे,,रे उड़े रे कणघर की थारो ल़हेरियो x2

Advertisement

घेरदार घाघरो घूमर मैं घालूली
थारे सागे गणगौर डीजे पर नाचूली
सर,,रे,,रे उड़े रे कणगरगी थारो ल़हेरियो x2

अरे झीना-झीना घूँघट में तिरछी-तिरछी देखे रे
घेरदार घाघरो क्यो लुल-लुल नाचे रे
सर,,रे,,रे उड़े रे कणगरगी थारो ल़हेरियो x2

अन्य राजस्थानी गाने :

स्वच्छता का रखिए ध्यान |
स्वच्छता से देश बनेगा महान ||