Home Folk घनी फूटरी लागे | Salim Sekhavas | Lyrics

घनी फूटरी लागे | Salim Sekhavas | Lyrics

टीना राठौड़ और सरवर खान ने घनी फूटरी लागे गीत में अहम भूमिका निभाई हैं। गाने में आवाज सलीम शेखावास ने दी हैं। राजस्थानी एल्बम गीत निर्देशक राजहंस जांगिड़ है। मारवाड़ी सॉन्ग का म्यूजिक एस.के स्टूडियो ने कम्पोज किया हैं।

बन्नी अपने सैया को बहुत ही सुन्दर लग रही हैं अपने होठो पर लाली लगाए हुए जानू सैया की ओर जा रही हैं। आज तो बन्नी आशिको को बहुत फूटरी लग रही हैं और बाद आशिक उसे ना पसंद करने लगेंगे। बन्नी कमर के लटको से आशिको का दिल घायल कर रही हैं और बाद में चक्केजाम होंगे।

Ghani Futari Laage Song Lyrics

आज तो तू छोरा ने घणी ही फूटरी लागे ये
काल लागेली वाने खारी के बात म्हारी मान तो सरी ये

रोज रोज तू नया नया छोरा का सपना देखेये
काल उड़ेला नींद खारी के बात म्हारी मान तो सरी ये

Advertisement

आज तो तू छोरा ने घणी ही फूटरी लागे ये
काल लागेली वाने खारी के बात म्हारी मान तो सरी ये

आज तो होठा की लाली घणी फूटरी लागे ये
काल लागेली वाने ठीक ये बात म्हारी मान तो सरी ये

आज तो कमरा को लटको घणो जोर को लागे ये
काल होवेला चक्काजाम ये बात म्हारी मान तो सरी ये

आज काल बूढ़ा पे घणो मेक -अप सेकप राखे ये
काल जमेला वीपे धूल के बात म्हारी मान तो सरी ये

अन्य राजस्थानी गाने :

विकसित राष्ट्र की हो कल्पना |
स्वच्छता को होगा अपनाना ||