Home Folk काजलियो | Twinkle Vaishnav, Mukesh Choudhary | Lyrics

काजलियो | Twinkle Vaishnav, Mukesh Choudhary | Lyrics

सज्जन सिंह गहलोत द्वारा निर्देशित राजस्थानी लोकगीत काजलियो पी.आर.जी म्यूजिक एंड फिल्म्स की ओर से प्रस्तुत किया गया हैं। गीत में आवाज ट्विंकल वैष्णवमुकेश चौधरी ने दी हैं। सॉन्ग का म्यूजिक मुकेश चौधरी ने कंपोज किया हैं व गीत के बोल पारम्परिक हैं।

गौरी अपने पिया से बहुत प्रेम करती हैं और उसे हमेशा अपनी आँखों के सामने देखना चाहती हैं। वही पिया भी अपनी गौरी के बैगर एक पल नहीं रह सकता हैं और गौरी की सारी इच्छा को वो पूरा करने में लगा रहता हैं। महल में बैठे हुए गौरी हमेशा पिया के ख्यालो में खोई रहती हैं।

Kajaliyo Song Lyrics

थाने काजळियो बनाल्यूं म्हारे नैणा में रमाल्यूं
राज पळकां में बन्द कर राखूँली
हो हो हो, राज पळकां में बन्द कर राखूँली

गोरी पळकां में नींद कैयां आवेली
गोरी पळकां में नींद कैयां आवेली, आवेली
गोरी पळकां में नींद कैयां आवेली

Advertisement

म्हारी पळकां पालणिये झुलावेली झुलावेली
झुलावेली पळकां पालणिये झुलवेली
हो म्हारे नैणा सूं दूर-दूर कैयां जावोला जी
थाणे चन्दण हारबनाल्यूं म्हारे हिरदे सूं लगालूं
चुन्दड़ी में ल्हुकाए थाने राखुंली
हो हो हो, चुन्दड़ी में ल्हुकाए थाने राखुंली

गोरी चुन्दर लहर लहरावेली
गोरी चुन्दर लहर लहरावेली, लहरावेली
गोरी चुन्दड़ी लहर लहरावेली

ढोळा प्राणां में प्रीत जगावेली
प्राणां में प्रीत जगावेली
हो म्हारे हिवड़े सुं दूर-दूर कैयां जावोला जी
थाने चन्दन हाल बनाल्यूं
घूंघट में छिपाए थाने राखुंली

अन्य राजस्थानी गाने भी देखे :

विकसित राष्ट्र की हो कल्पना |
स्वच्छता को होगा अपनाना ||