Home Folk कोनी माने रे नणद बाई थारो बीरो | Govind Ojha, Vinay Vaishnav,...

कोनी माने रे नणद बाई थारो बीरो | Govind Ojha, Vinay Vaishnav, Arjun Tyagi | Lyrics

सज्जन सिंह गहलोत द्वारा निर्देशित राजस्थानी सॉन्ग कोनी माने रे नणद बाई थारो बीरो पी.आर.जी म्यूजिक एंड फिल्म्स की ओर से प्रस्तुत किया गया है। गीत में आवाज गोविन्द ओझा, विनय वैष्णव व अर्जुन त्यागी ने दी हैं। सॉन्ग का म्यूजिक मुस्ताक खान ने कंपोज किया हैं व गीत के बोल सुमेर सिंह ने तैयार किये हैं।

फागुन महीना आने पर पिया अपनी नखरे वाली गौरी को तंग कर रहा हैं और उसकी कोई भी बात नहीं मान रहा हैं। गौरी यह सब बात अपनी छोटी ननद को बता रही हैं। बलम अपने संग के साथियो के चंग की आवाज पर धूम मचा रही हैं और बार बार गौरी को अपने साथ साथ नाचने के लिए जा रहा हैं। गौरी बलम की इन हरकतों से परेशान होकर उससे नाराज हैं।

Koni Maane Re Nanad Bai Tharo Biro Song Lyrics

कोनी माने रे नणद बाई थारो बीरो रे कोनी माने रे
अरे अरे छाती रांदे रे नणद बाई थारो बीरो रे
कोनी माने रे नणद बाई थारो बीरो रे कोनी माने रे

पग की पायलड़ी म्हारी कलाळी के गिरग्यो
माथा वाली रखड़ी ले गयो तड़के दारू पीवण ने
दारू पीवण ने नणदी रो बीरो टूमा मांगे रे
कोनी माने रे नणद बाई थारो बीरो रे कोनी माने रे

Advertisement

दारूडी पीवा मैं गौरी साथीड़ा रो संगड़ो रे
फागण में नाचा ये मैं बजावा चंगड़ो मतना बरजो ये
अरे अरे मतना बरजो ये परनोडी म्हारी पोछी लागे हो
कोनी माने रे नणद बाई थारो बीरो रे कोनी माने रे

पग की पायलड़ी गौरी और घड़ादू ये
रखड़ी मुलादू चालो सोनी के मतना बरजो ये
अरे अरे मतना बरजो ये परनोडी म्हारी पोछी लागे हो
कोनी माने रे नणद बाई थारो बीरो रे कोनी माने रे

अन्य राजस्थानी गाने :

भारत सरकार का इरादा |
सम्पूर्ण स्वच्छता का वादा ||