Home Bhajan ललकारा करतो आवे रंगीला भेरू | Kavi Ramavtar Saini | Lyrics

ललकारा करतो आवे रंगीला भेरू | Kavi Ramavtar Saini | Lyrics

बाबूलाल सैनी द्वारा निर्देशित मारवाड़ी सॉन्ग ललकारा करतो आवे रंगीला भेरू अल्फ़ा म्यूजिक एंड फिल्म्स की ओर से प्रस्तुत किया गया हैं। लेटेस्ट सांग 2018 में आवाज कवि रामअवतार सैनी ने दी हैं। इस गीत में रेखा मीणा व राज ने अहम् भूमिका निभाई हैं।

भैरुजी के मंदिर में दर्शन के लिए श्रद्धालु की भीड़ लगी हुई हैं। नवरात्रो के अवसर पर भक्त बाटी बाकले का प्रसाद और रम की बोतल की धार चढ़ा रहे हैं। बाबा के मंदिर में आकर बांझडिया पुत्र प्राप्ति का वर माँग रही हैं। अपने कष्टों से दुखी लुले, लंगडे, अंधे बाबा के दरबार में आके कष्टहरण की अर्जी लगा रहे हैं। बाबा की भक्ति में भक्त तलीन होकर नाच रहे हैं।

Lalkara Karto Aawe Rangeela Bheru Song Lyrics

ललकारा करतो आवे रे रंगीला भेरू
जल ज्योत सवाई नित की माला फेरू
में छू जन्म बांझणी रे…

खिलादे बेटो गोद में रे x2

Advertisement

बावन भेरू छप्पन कालवा चौसठ जोगण
ल्याई बाटी बांकला मत करजो थे औगण
बकरो दयूली कालो रे…

खिला दे बेटो गोद में रे x2

बाजे ढोल नगाड़ा नौपत और शहनाई
मतवाला भेरू थारे पगा उबाणी आई
बेडो पार लगा दे रे…

खिला दे बेटो गोद में रे x2

अगवाणी भेरू कतो टन को जालो
थाने अरज करू छू यो सुंदर सो गानो
थाके धार चढ़ाउ रे…

खिला दे बेटो गोद में रे x2

कवि रामअवतार भेरू का चन्द बनावे
अल्फ़ा कैसेट्स को करता धूम मचावे
भेरू ध्यान राख जे रे….

खिला दे बेटो गोद में रे x2

अन्य राजस्थानी गाने भी देखे :

स्वच्छता का रखिए ध्यान |
स्वच्छता से देश बनेगा महान ||