Home Folk म्हारो सिंगार | Kaluram Bhikarniya, Neelu Rangili | Lyrics

म्हारो सिंगार | Kaluram Bhikarniya, Neelu Rangili | Lyrics

म्हारो सिंगार डीजे मिक्स राजस्थानी सॉन्ग 2017 में आवाज कालूराम भिखरनिया और नीलू रंगीली ने दी हैं। मारवाड़ी एल्बम सॉन्ग का म्यूजिक मेवाड़ी ब्रदर्स ने कम्पोज किया हैं। सरवर खान, गौरी नागौरी और विष्णु बगाना अभिनीत गीत का निर्देशन अंशुमान झा ने किया हैं। गीत के निर्माता मंगल सिंह और भागचंद गुर्जर हैं।

फागन का महीना आने पर गौरी सोलहा श्रृंगार करके अपने सैया का इंतजार कर रही हैं और उसकी अंखिया अपने पिव का मुखड़ा देखने तरस रही हैं। उसकी ओढ़नी चम चम चमक रही हैं। उसकी कोयल जैसी मीठी बोली भंवर जी को प्यारी लगती हैं और सैया की याद में वो पतली हो गई हैं।

Mahro Singar song Lyrics

फागणिया में गौरी निरखे कर सोलह श्रृंगार हो
जोबन जावे ओ मूंगा मोल को

ओ म्हारो सिंगार फागण में थारे लिए
ओ ओलु आवे रे भंवर सा थारी रे

Advertisement

गौरी थारी अंखिया काली काजल रो कमाल हो
अंखिया सु तीर चलावे काळजे

ऐ अंखिया तरसे रे ऐ पीव कब आवो रे
यो चंगड़ो बाजे ये ओ सखिया नाचे रे
म्हारो भंवर सा जी यो सगळो थारे लिए

चम चम चमके ओढ़नी फागणियो फागण माही गौरी
फागणियो मुलादु मूंगा मोल रो

ऐ लहरियो लहरावे साहिब ने बुलावे रे
झीणो घुंघटीयो ओ पिव जी थारे लिए
ओ म्हारो सिंगार भंवर सा थारे लिए

कोयल जेडी बोली थारी मीठा बोल बोले हो
बोले कोयल जु डोले काळजो

ओ काली पड़गी रे थारी यादा में
ओ पतली पड़गी हो थारी यादा में
ऐ जोबनियो जावे रे मूंगा मोला को रे

अन्य राजस्थानी गाने :

स्वच्छता का रखिए ध्यान |
स्वच्छता से देश बनेगा महान ||