Home Folk मामो बेस परदेश | Likhmaram Amarpura, Jeet Bhati, Ratan Parjapat | Lyrics

मामो बेस परदेश | Likhmaram Amarpura, Jeet Bhati, Ratan Parjapat | Lyrics

लिखमाराम अमरपुरा, जीत भाटी और रतन प्रजापत की आवाज में मामो बेस परदेश सॉन्ग राजस्थानी फागुन गीत हैं। इस गीत का म्यूजिक मेवाड़ी ब्रदर्स ने कंपोज किया व निर्देशक सज्जन सिंह गहलोत हैं। मारवाड़ी एल्बम का सॉन्ग पी. आर.जी म्यूजिक एंड फिल्म्स की ओर से प्रस्तुत हुआ हैं। एल्बम गीत के लेखक लिखमाराम अमरपुरा हैं।

भानु का मामा परदेश में बसा हुआ हैं और फागुन महीना आने पर मामी की उसकी याद सता रही हैं। मामी भानु से कहकर अपने पिया से पीला मंगवा रही हैं और मामी को फागण में पीला ओढ़ने का बड़ा ही शौक हैं। मामा अपनी गौरी के लिए जोधाणा से जुतिया लेकर आ रहा है और मामी उन्हें पहकर घर आँगन में घूम रही हैं।

Mamo Base Pardesh Song Lyrics

भानु थारो मामो बसे परदेश म्हारे
फागणिया महीना में आ तो रहीजे
नन्दल रा जाया थारी ओळ्यू घणी आवे रे

अरे भानु थारा मामा सु पिलो मंगवाई दे रे
फागण में पीला की मन आवे नन्दल रा जाया
पिलो मंगवाई दे रे

Advertisement

मामी म्हारो मामो बसे पाली शहर माही
अरे प्रभाते में पिलो मंगवाई दू
फागण में पिलो ओढ़ लीजो

भानु थारा मामा सु मोझड़ी मंगवाई दे रे
अरे खेता में जाऊ तो कांटा भागे नंदल रा जाया
जुत्ती म्हाने ल्याई दे रे

ऐ मामी जोधाणा वाली जुत्ती जफर जोर की ये
अरे मामो सा से जुत्ती मंगवाई दू
पहरे तो लागे फूटरी ये

अन्य राजस्थानी गाने :

विकसित हो राष्ट्र हो हमारा |
स्वच्छ हो देश हमारा ||