Home Folk परदेसी | OP Choyal, Tikam Nagori | Lyrics

परदेसी | OP Choyal, Tikam Nagori | Lyrics

निशा जैसवाल, टीकम नागौरी, मुकेश पुष्कर और ओ.पी चोयल ने परदेसी गीत में अहम भूमिका निभाई हैं। गाने में आवाज ओ.पी चोयलटीकम नागौरी ने दी हैं। राजस्थानी एल्बम गीत के निर्माता ओ.पी चोयल हैं। मारवाड़ी सॉन्ग तेजाजी म्यूजिक की नयी प्रस्तुति हैं।

परदेश गये हुये बलम को गौरी याद कर रही है और उसे याद करते हुये जल्दी आने के लिए बोल रही हैं। सजनी महल में बैठी हुई पिया के इंतजार में काले काग उडाती रहती हैं और अब तो उसकी चुनरी का रंग भी फीका होने लगा हैं। फागुन महीना पर गौरी अब एक पल भी अपने पिया से दूर नहीं रह सकती हैं और दिन का समय तो गौरी काम काज करके निकाल देती हैं लेकिन रात को पिया की याद में तड़पती रहती हैं।

Pardesi Song Lyrics

बेगो आजा रे म्हारा परदेशी थारी गौरी जोवे बाट
बैठी महला माहीं गोरडी उड़ावे काला काग
उड़ावे काला काग परण्या घनी सतावे याद
बेगो आजा रे म्हारा परदेशी थारी गौरी जोवे बाट

अरे लाल पिली चुंदड़ी जी जिको रंगड़ो उडियो जाये
अरे लाल बरी रो घाघरो जिको काटो फटियो जाये
परण्या थारी याद में जोबनियो बितो जाये
बेगो आजा रे म्हारा परदेशी थारी गौरी जोवे बाट
बैठी महला माहीं गोरडी उड़ावे काला काग

Advertisement

अरे चंदा थारी चांदनी जी कोई तारा छाई रात
ओ फागण महीनो लागियो जी घणी सतावे याद
अरे दिन दिन तो यो कट जावे या अपहरण होगी रात
बेगो आजा रे म्हारा परदेशी थारी गौरी जोवे बाट
बैठी महला माहीं गोरडी उड़ावे काला काग

अरे सुसरो म्हारो पंच बणियो जी रहवे हथया माह
देवर म्हारो घणो लाडलो घर ने छोड़ नहीं जाये
परण्यो म्हारो भोलो ढालो हीरे पटकतो आय
बेगो आजा रे म्हारा परदेशी थारी गौरी जोवे बाट
बैठी महला माहीं गोरडी उड़ावे काला काग

अन्य राजस्थानी गाने :

गांधीजी के सपने को कीजिए साकार |
स्वच्छता हो देश मे आपार ||