Home Folk रंगीलो फागण | Sohan Singh, Rajan Sharma | Lyrics

रंगीलो फागण | Sohan Singh, Rajan Sharma | Lyrics

अल्फ़ा म्यूजिक एंड फिल्म्स की ओर प्रस्तुत से मारवाड़ी गीत रंगीलो फागण सोहन सिंह और राजन शर्मा ने गाया हैं। इस गीत के बोल प्रहलाद मीणा की कलम से लिखे गए हैं। राजस्थानी एल्बम गीत के निर्माता गोपाल सैनी व निर्देशक बाबूलाल सैनी हैं।

होली का चंग बजने पर गौरी मन में उमंग उठ रही हैं। और हर घर में ख़ुशी का माहौल बना हुआ हैं। होली का त्यौहार आने सब लोग भेद भाव को भूलकर एक साथ होली में धमाल मचा रहे हैं। अपनी गौरी को उदास देखकर पिया उसके रंग गुलाल लेकर आ रहा हैं और रंग पिचकारी से उसके सारे अंग को गिला कर दिया हैं। होली का त्यौहार प्रेम भाव प्रतीक माना जाता हैं।

Rangilo Fagan Song Lyrics

ढोला म्हारा होली को चंग बाज्यो, रंगीलो फागण आयो रे
फागण आयो रे म्हारा मनडा में भायो रे,
ढोला म्हारा पिया म्हारा
ढोला म्हारा होली को चंग बाज्यो, रंगीलो फागण आयो रे x 2

गौरी म्हारी मत हो घणी उदास, रंगीलो रंग ले आयो ये
रंग लियायो ये, झाँख पिचकारी ल्यायो ये
गोरी म्हारी, ओ गोरी म्हारी
गौरी म्हारी मत हो घणी उदास, रंगीलो रंग ले आयो ये x 2

Advertisement

जागी घणी उमंग, छा रही घर-घर ख़ुशी अपार
ढोला म्हारा, घर-घर ख़ुशी अपार
भेद भाव ने छोड़ मनावे होली को त्यौहार
ढोला म्हारा ओ पिया म्हारा
ढोला म्हारा होली को चंग बाज्यो, रंगीलो फागण आयो रे x 2

होली का रंग दर्शावे कोई, प्रेम भाव प्रतीक
गोरी म्हारी, प्रेम भाव प्रतीक
जीवन में कई रंग गोरी, होली दे साँची सीख
गोरी म्हारी, ओ गोरी म्हारी
गौरी म्हारी मत हो घणी उदास, रंगीलो रंग ले आयो ये x 2

अन्य राजस्थानी गाने :

विकसित राष्ट्र की हो कल्पना |
स्वच्छता को होगा अपनाना ||