Home Folk बन्नी महल में आवा दे | Geeta Goswami, Chunnilal Rajpurohit | Lyrics

बन्नी महल में आवा दे | Geeta Goswami, Chunnilal Rajpurohit | Lyrics

बन्नी महल में आवा दे, जो एक लेटेस्ट राजस्थानी बन्ना-बन्नी लोकगीत हैं, जे.डी.बी डिजिटल की नयी पेशकश हैं। राजस्थानी एल्बम गीत के बोल पारम्परिक और निर्देशक दीक्षित परिहार हैं। इस गाने में आवाज गीता गोस्वामीचुन्नीलाल राजपुरोहित ने दी हैं। जबकि गाने का म्यूजिक मुकेश चौधरी ने कंपोज किया।

बन्नी बन्ना को महल के अंदर नहीं आने दे रही हैं और उसके बन्ना चुडिया लेकर आया हैं। बन्नी अपने नवल बन्ना से नाराज है और उससे बात नहीं कर रही हैं। वही बन्ना का बन्नी के बिना किसी भी काम मन नहीं लगा रहा हैं और कोई ना कोई बहाना करके बार बार महल के द्वार जा रहा हैं।

Banni Mahal Mein Aava De Song Lyrics

चुड़ला ल्यायो ये बालक बन्नी महल में आवा दे
म्हारो हल्दी भरियो डील खिड़की कुण खोले
बनसा आप पहराया लूग थासे बनसा कुन बोले

पडला ल्यायो रे बालक बन्नी महल में आवा दे
म्हारा महेंदी भरिया हाथ खिड़की कुण खोले
बनसा आप पहराया लूग थासे बनसा कुन बोले

Advertisement

अरे गणला ल्यायो रे नखराली बन्नी महल में आवा दे
म्हारो केसर भरियो डील खिड़की कुण खोले
बनसा आप पहराया लूग थासे बनसा कुन बोले

रखड़ी रे ल्यायो रे बालक बन्नी महल में आवा दे
म्हारो हल्दी भरियो डील खिड़की कुण खोले
बनसा आप पहराया लूग थासे बनसा कुन बोले

अन्य राजस्थानी गाने भी देखे :

स्वच्छता है महा अभियान |
स्वछता मे दीजिए अपना योगदान ||