Home Folk झिरमीर मेह बरसे | Ganga Devi | Lyrics

झिरमीर मेह बरसे | Ganga Devi | Lyrics

मुकेश सुराणा द्वारा निर्देशित मारवाड़ी फागण सॉन्ग झिरमीर मेह बरसे पी.आर.जी म्यूजिक एंड फिल्म्स की ओर से प्रस्तुत किया गया हैं। लेटेस्ट सांग में आवाज गंगा देवी ने दी हैं। सॉन्ग का म्यूजिक काली पी.आर.जी ने कंपोज किया हैं व गीत के बोल गंगा देवी ने तैयार किये हैं ।

झिरमीर झिरमीर बरसात में गौरी अपने घर आँगन नाच रही हैं और अपने सैया को काजल लेकर आने हो बोल रही हैं। गौरी का देवर उसके लिए सोलह श्रृंगार लेकर आ रहा हैं और गौरी उसे अपनी बहन के लिए वापस कुछ नहीं दे रही हैं। बारिश होने पर गौरी अपने खेतो में खेती करने के लिए निकल पड़ी हैं।

Jhirmir Meh Barse Song Lyrics

झिरमीर मेष भरे आई रलकण रेत
गेला गोविंदा रे काजलियो लेर

बाउ गेंहू गेगरा रे भावो लीलोनी जवान
गेला गोविंदा रे काजलियो लेर

Advertisement

बरजो रे ओरा ओरड़ी रे दीजो रावलो भंडार
गेला गोविंदा रे काजलियो लेर

ल्याजो देवर गुगलो हो म्हारे नैणा रो श्रृंगार
नहीं देऊ वापस गुगड़ो हो थोरी बहन ने परणाई
गेला गोविंदा रे काजलियो लेर

थे देवर खाटरा हो म्हारी बहन केलु काम
गेला गोविंदा रे काजलियो लेर

अन्य राजस्थानी गाने :

गांधीजी के सपने को कीजिए साकार |
स्वच्छता हो देश मे आपार ||