Home Folk समधन | Laxmi Choudhary| Lyrics

समधन | Laxmi Choudhary| Lyrics

रेखा शेखावत व रेखा मीणा अभिनीत राजस्थानी गीत समधन में आवाज लक्ष्मी चौधरी ने दी हैं। राजस्थानी एल्बम के निर्माता गोपाल सैनी व बाबूलाल सैनी हैं। डायरेक्टर चाँद द्वारा निर्देशित गाना अल्फ़ा म्यूजिक एण्ड फिल्म्स की ओर से प्रस्तुत किया गया हैं।

अपनी प्यारी समधन से दूसरी समधन गले मिल रही हैं और दोनों डीजे पर नाच रही हैं। दोनों एक दूसरे के पहन पनाब रहन सहन के बारे में बता रही हैं और एक दूसरे से हंसी मजाक कर रही हैं। दोनों समधन एक दूसरे के पिया की बुराई रही हैं और दोनों काफी हंस रही हैं।

Samdhan Song Lyrics

गोरी गोरी समधन प्यारी प्यारी समधन
समधन गजबण कूदरी रे
डीजे पर खाये मचोला रे x2

ब्यान तेरो नाक केरी सी फाँक
ए मतना काटे आँख तू स्याणी स्याणी झांख
हा काई गुण लाग्यो सुख रही रे
समधन करले समडोला रे
डीजे पर खाये मचोला रे

Advertisement

डाट तेरो झोल घूँघट को पट खोल
ब्याईडा ने बोल फेर मचा रमझोल
कुनसा बलम ने पूछ रही
तेरो जोबन खाये झोला रे
डीजे पर खाये मचोला रे

जोबन तू डाट करदूँगी खड़ी खाट
हो रही बारह बात ब्याईडो रहियो नाच
मोटी मोटी आँख सूजरी रे
खाले ने सुई भोला रे
डीजे पर खाये मचोला रे

ब्यान तेरा लटका भावे सई तूने गटका
लक्ष्मी का देख खटका अल्फ़ा कैसेट्स में झटका
रामअवतार ने यू दिख रही काई और खिलावे बाला रे
डीजे पर खाये मचोला रे

अन्य राजस्थानी गाने :

स्वच्छता है देश का महा अभियान |
स्वछता मे दीजिए अपना योगदान ||