Home Folk रेलगाड़ी | Geeta Goswami | Lyrics

रेलगाड़ी | Geeta Goswami | Lyrics

गीता गोस्वामी की आवाज में रेलगाड़ी सॉन्ग राजस्थानी लोकगीत हैं। इस गीत का म्यूजिक मुकेश चौधरी ने कंपोज किया। मारवाड़ी एल्बम का सॉन्ग जे.डी.बी डिजिटल की ओर से प्रस्तुत हुआ हैं। एल्बम गीत के लेखक पवि हैं।

रेगिस्तान के धोरे में रेलगाड़ी चल रही हैं और टीटी गौरी से टिकट मांग रहा हैं। लेकिन उसके पास टिकट नहीं हैं। सात बहन भाईयो में गौरी सबसे छोटी और सबकी लाडली हैं। उसे लेने के लिए बीरोसा ऑडी कार भेज रहे हैं और गौरी कोई देखने के लिए पुरे घरवाले उत्साहित हो रहे हैं। काकोसा बाबोसा बीरोसा सभी गौरी के आने का इंतजार कर रहे हैं।

Railgadi Song Lyrics

(अरे धोरा रे धोरा रे माही रेल गाड़ी चाली
ए तो टीटीडो तो टिकट माँगे आए अम्मा
ए तो बाबूडो तो टिकता माँगे ए अम्मा
मैने देदे देदे गाँठ रो भाड़लियो

(सात भाया री मैं तो छोटी रे बहन
म्हारा बिरोसा ने ऑडी ए भेजे नि अम्मा
मैने देदे देदे गाँठ रो भाड़लियो

Advertisement

(अरे बिरोसा तो म्हारा भाभी सा रे लारे
म्हारे काको सा ने ऑडी ए भेजे नी अम्मा
मैने देदे देदे गाँठ रो भाड़लियो

(अरे काकोसा तो म्हारा काकोसा नी लारे
म्हारे बबोसा नि ऑडी आए भेजे नि अम्मा
मैने देदे देदे गाँठ रो भाड़लियो

अन्य राजस्थानी गाने :

स्वच्छता अपनाओ |
देश को विकास के पथ पर लाओ ||